भारत सरकार द्वारा कानूनों में बदलाव लाने की कोशिश हिंसा का रूप लेती दिखाई दे रही है. पहले जामिया और अब जेएनयू. देश की दूसरी यूनिवर्सिटी में हुए बवाल के बाद बॉलीवुड सेलेब्स ने खुलकर इस पर अपनी राय रखी है. जहां स्वरा भास्कर से लेकर, अनिल कपूर, आलिया भट्ट,  अनुराग कश्यप समेत कई सितारों ने सड़कों से लेकर सोशल मीडिया पर अपना रुख साफ किया है. सभी सितारों ने इसका विरोध किया है. 

अनुराग कश्यप ने एक चर्चित समाचार कंपनी से अपनी बातचीत में कहा ''दंगे कराने वाले बाहर से बुलाए जाते हैं. मैंने कभी दो लोगों को खामखां लड़ते नहीं देखा. ये झूठ की सरकार है. ऊपर से नीचे तक झूठ है और अगर आपको जानना है कि सरकार कब झूठ बोलती हैं तो मैं बता दूं कि वो जब मुंह खोलती है... तब झूठ बोलती है."

ऐसे में बॉलीवुड फिल्म निर्देशक विशाल भरद्वाज ने अपने ट्विटर पर कविता लिख इस घटना का उल्लेख किया है. ऐसे में एक्ट्रेस आलिया भट्ट ने भी इसपर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए अपने इंस्टाग्राम स्टोरी में लिखा '' हर कोई बस डिस्टर्ब कर रहा है, ये हो क्या रहा है,'' उन्होंने ने आगे लिखा जब स्टूडेंट, टीचर्स और शातिपूर्ण नागरिक भी यू ही चलते फिरते निशाना बनने शुरू हो जाए तो मुझे लगता है कि ये दिखावा करना बंद कर देना चाहिए की सब कुछ ठीक है'' आलिया का ये बयान बताता है कि लगातार हो रहे इन बवाल और प्रदर्शन से वो खुद भी बहुत चिंता में हैं. 

एक्टर अनिल कपूर ने भी बितेरोज इस विषय में अपनी चुप्पी को तोड़ा उन्होंने अपनी फिल्म मलंग के ट्रेलर लॉन्च पर मीडिया से बात करते हुए कहा ''मुझे लगता है कि इसकी निंदा होनी चाहिए. जो मैंने देखा वो बहुत दुखद और हैरान कर देने वाला है. ये बहुत डिस्टर्बिंग है. मैं रात भर इसके बारे में सोच सोच कर सो ही नहीं पाया. मुझे लगता है कि झगड़ा करके आप कुछ हासिल नहीं कर सकते. जिन्होंने ये किया है उन्हें सजा मिलनी चाहिए."

सितारों ने सोशल मीडिया के बाद सड़कों पर भी उतरने का फैसला किया जहां तापसी पन्नू, ऋचा, अनुराग कश्यप, अली फजल ने मुंबई गेटवे ऑफ इंड‍िया पर शांत‍ि पूर्ण प्रदर्शन करते हुए JNU हिंसा पर विरोध दर्ज किया.