जम्मू में तैनात सेना के 29 वर्षीय जवान बजरंग भगत का पार्थिव शरीर 1 जनवरी को झारखंड में अपने गांव बहेराटोली पहुंचा। लेकिन उसके अंतिम संस्कार से पहले ही पत्नी मनीत उरांव ने कुएं में कूदकर जान दे दी। इसके बाद पति-पत्नी की एक साथ अर्थी उठी और अंतिम संस्कार हुआ। दोनों की शादी 2 साल पहले ही हुई थी। सैन्य अधिकारियों के मुताबिक, बजरंग की मौत 29 दिसंबर की रात बिस्तर से गिरने के कारण हुई थी।

मनीता की मौत के बाद उसके परिजन ने बजरंग की बहन और जीजा पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया। उनका कहना है कि संतान नहीं होने पर ननद (बजरंग की बहन) मनीता को ताना देते रहती थी, जिससे तंग आकर उसने जान दी है। बजरंग के पिता का निधन पहले ही हो चुका है। पांच बहनों की शादी हो चुकी है। अब घर में उनकी बूढी मां है।